अंतरिक्ष अनुप्रयोग और भू-सूचना विज्ञान के लिए 51 नए टीवी चैनल्स

 भारत के सार्वजनिक प्रसारणकर्ता प्रसार भारती ने भास्कराचार्य राष्ट्रीय अंतरिक्ष अनुप्रयोग और भू-सूचना विज्ञान, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के साथ एक समझौता किया। 

जिसमे डीडी फ्रीडिश दर्शकों के लिए  51 नए डीटीएच शैक्षणिक टीवी चैनलों को लॉन्च करने के लिए है। ये टीवी चैनल्स स्पेस एप्लीकेशन और भू-सूचना विज्ञान पर आधारित होंगे, और दूरदर्शन के सहयोग (सह - ब्रांडिंग) से चलाये जायेगे । 



इन टीवी चैनल्स का उद्देश्य ग्रामीण और दूरदराज के क्षेत्रों के हर घर में गुणवत्तापूर्ण शैक्षिक कार्यक्रम लाना है। जिससे छात्रों को अंतरिक्ष अनुप्रयोग और भू-सूचना विज्ञान, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी के बारे में सटीक जानकारी मिल सके। जिससे उनकी पढाई बाधित न हो, बल्कि उनको इस क्षेत्र में अतिरिक्त कौशल या ज्ञान मिल सके। 

जारी बयान में कहा गया है कि "यह सेवा डीडी फ्री डिश के सभी दर्शकों के लिए नि: शुल्क उपलब्ध होगी, कौशल विकास के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता और देश के अंतिम व्यक्ति को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए यह कदम उठाया गया है।  सरकार की यह पहल सभी को शिक्षा प्रदान करने के सरकार के लक्ष्य को प्राप्त करने में एक लंबा रास्ता तय करेगी।"

हालाँकि की भारत सरकार द्वारा सिर्फ  कुछ ही सालो में छात्रों की हर जरुरत को ध्यान में रखते हुए उनकी पढाई के हिसाब से टीवी चैनल्स को जोड़ा है। जैसे -

SwayamPrabha 33 उच्च गुणवत्ता वाले शिक्षा चैनल प्रदान करता है। चैनल पाठ्यक्रम-आधारित पाठ्यक्रम सामग्री को सुव्यवस्थित करता है. इन चैनल का प्रसारण देश की अच्छे से अच्छे यूनिवर्सिटी द्वारा लाइव क्लासेज का सब्जेक्ट के आधार पर प्रसारण किया जाता है। जैसे विज्ञान, भौतिक विज्ञान, जीव विज्ञान, कृषि विज्ञान, गणित, इतिहास आदि। 

इसी प्रकार NCERT के द्वारा कक्षा 1 से 12 (12 चैनलों) के लिए ई-विद्या प्रोग्राम के द्वारा सरकार ने एक क्लास एक चैनल लॉन्च किया, जिसका अर्थ है कि प्रत्येक कक्षा के लिए एक लाइव टीवी चैनल, जो ऑनलाइन कक्षाओं और ट्यूशंस के लिए समर्पित है.

इसी प्रकार गुजरात सरकार ने गुजराती भाषा में 16 शैक्षिक टीवी चैनल शुरू किए

डीजीशाला - भारत सरकार ने  इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी के द्वारा कैशलेस डिजिटल लेनदेन के बढ़ावा देने के लिए, डिजिटल पेमेंट की जानकारी जैसे कैसे करे, आदि सीखाने के लिए इस चैनल को लांच किया था। जहाँ गांव के लोग भी शलेस डिजिटल लेनदेन करना सीख रहे है, तथा इसमें कैसे सुरक्षित रहे इससे जानकारी ले रहे है। 


इसलिए वर्तमान में उपलब्ध शिक्षा टीवी चैनल डीडी फ्री डिश में हैं - स्वयंभू (33 टीवी चैनल) + ई-विद्या (12 चैनल) + वंदे गुजरात (16 चैनल) + डिजीशला (1 चैनल) = कुल 33 + 12 + 16 + 1 = 62

आप प्रसार भारती  के इस प्रेस  रिलीज़ को यहाँ से देख सकते है।  आप इस जानकारी को इंग्लिश Hindi में यहाँ पढ़ सकते है।  


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां